शीतकाल के लिए बंद हुए द्वितीय केदार भगवान मद्महेश्वर के कपाट।

0
34

रुद्रप्रयाग/उखीमठ – द्वितीय केदार भगवान मद्महेश्वर के कपाट विधि विधान के साथ सुबह 8.30 बजे शीतकाल के लिए बंद कर दिए गए है। बाबा मद्महेश्वर की चल उत्सव विग्रह डोली शीतकालीन गद्दीस्थल ओंकारेश्वर मंदिर के लिए प्रस्थान करते हुए पहले पड़ाव गौंडार पहुंचेगी।


21 नवंबर को डोली छह माह की शीतकालीन पूजा अर्चना के लिए ओंकारेश्वर मंदिर में विराजमान हो जाएगी। इस वर्ष यात्राकाल में मद्महेश्वर भगवान के दर्शन के लिए आठ हजार से अधिक श्रद्धालुओं ने दर्शन किए हैं। द्वितीय केदार की चल उत्सव विग्रह डोली मद्महेश्वर से शीतकालीन गद्दीस्थल ओंकारेश्वर मंदिर ऊखीमठ के लिए प्रस्थान करेगी और रात्रि प्रवास के लिए पहले पड़ाव गौंडार पहुंचेगी।

19 को रांसी में प्रवास होगा और 21 नवंबर को डोली ओंकारेश्वर मंदिर ऊखीमठ में छह माह के लिए विराजमान हो जाएगी। मद्महेश्वर की डोली के आगमन को लेकर श्री बदरीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति ने ओंकारेश्वर मंदिर को भव्य रूप से सजाया है।
मंदिर के पुजारी शिव शंकर लिंग ने बताया कि बाबा मद्महेश्वर की डोली मंदिर की परिक्रमा व अपने भंडार और पात्रों का निरीक्षण भी करेगी। श्रीबदरीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति के कार्याधिकारी रमेश चंद्र तिवारी ने बताया कि मद्महेश्वर डोली आगमन के लिए ओंकारेश्वर मंदिर को भव्य रूप से सजाया जा रहा है। डोली आगमन पर  मनसूना में तीन दिवसीय मेला का आयोजन होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here